As’haabe Hussain, Part 2

As’haabe Hussain, Part 2

Hurr bin Yazeed riyahi

In ka khandaan khadeem ayyam se izzat wa azmat ka malik tha. Hurr k jadd aala ataab baadshah heera nomaan bin manzar ke makhsooseen me se tha. Khud janab e hurr ka shumaar koofa ke raosaa, wa sanadeed me hota tha aur sipah ibne zyaad mein ek dasta e fauj k afsar e aa’la the. Pehle pehel ibne zyaad ne inhi ko ek hazaar ki jameeat ke sath Imam Husain ka raasta rokne k liye bheja tha.(uske baad roze ashoora tak jo waqiaat saamne aaye wo ham kisi aur waqt share karenge, in sha allah).. Abdullah bin umair ki dilerana jang k nateeje me jab yasaar aur saalim qatl ho chuke to ehsase shikast ko kam karne aur maghloob gazab me aakar amro bin hajjaj zubaidi ne jo fauje Yazeed k maimana ka afsar tha. Apni poori taqat ke sath Husaini mujahideen ke maimana par hamla kar diya. Magar sipahe husaini ne is mauqe par sabr wa sibaat ka ajeeb muzahera kiya. Tareeq likhne walo ka bayan hai ki – unhone apne ghutne zameen par taik kar naizo ki aniya’n hamlawaro k saamne kar di. Iska nateeja ye nikla ki mukhalif ke ghorhe aage na badh sake. Aur jab mayoos ho kar wapas hone lage to As’haabe Hussain ne unko teero ki zadd par dekh kar teer maarne shuru kiye jis se mukhalif k kuch aadmi qatl hue aur kuch zakhmi.
(Aasir Bihaar, page 195|Nafsul Mahmoom, page 138| kaamil, volume 3, page 289)

Ye haalat dekh kar Hurr khidmat e Imam me hazir hue aur arz kiya “farzand e Rasool! Maine sabse pehle aap par khurooj kiya, ab mujhe ijazat de taaki sabse pehle aap par jaan qurban karu taaki is waseele se qayamat k din aap k jadd e naamdaar k sath musafeha kar saku. Sayyid Ajal ibne taaoos ne Janab e hurr k is bayan par tabsira karte hue likha hai
انما اراد اول قتیل من الان لان جماعۃ قتلوا قبلہےکما ورد
Lahoof, page 96
Yaani unki muraad ye thi ke (hamla e awla k baad) ab jo Shaheed hon un me se mai pehle darja e shahadat par faez hun. Kyunki un se qabl Ek jamaat jaame shahadat nosh kar chuki thi. Baharhaal janab e hurr ye rajz padhte hue maidane kaarzaar me nikal aaye –
انی انا الحر و ماوی الضیف
اضرب فی اعناقکم بالسیف
عن خیر من حلّ بارض الخیف
اضربکم ولا اری من حیف
Uske baad fauj e mukhalif par toot pade. Kuch tareeq likhne walo ka bayan hai k jab hurr lashkar ibne saad se alag hokar Husaini Jamaat me shaamil hue the to mukhalif fauj ke ek sipahi Yazeed bin sufyaan tameemi ne kaha tha: bakhuda agar mujhe is waqt hurr k jaane ka ilm hota to mai ek hi naize se uska kaam tamaam kar deta. Ab jab k janab e hurr tane-tanha nargha e aa’da me ghus kar shamsheer zani kar rahe the aur ye sha’ar bhi padhte jate the jo bilkul maujooda haalat ki tarjumani kar raha tha kyunki unka ghorha takwaar lagne se buri tarah zakhmi ho chuka tha –
ما زلت ارمیھم بشغرۃ نحرہ
ولباقہ حتی ترمل بلدم
Mai unko apne ghorhe ki gardan aur uske seene se barabar maarta raha, yaha tak ki ghorhe ne khoon ki chadar odh li.

Haseen bin tameem ne(jo ke ubaidullah bin zyaad ka police afsar tha) shakhs Yazeed bin tameemi se kaha: yahi Hurr hai jiske qatl ki tumhe tamanna thi. Ye sun kar Yazeed muqable ke liye nikla aur Hurr se daryaft kiya : kya muqabla karoge? Janab e Hurr ne kaha han. Uske baad Hurr ne us par ek aisa zabardast waar kiya ke Yazeed waasile jehennum ho gaya. Haseen bin tameem ka Qaul naql kiya jata hai k aisa ma’loom hota tha k Yazeed ki maut Hurr k hath me thi. Uske baad kyunki fauj e mukhalif se koi shakhs muqable k liye nahi nikla. Isliye Hurr wapas aa gaye. Agar se kayi chhoti maqtal ki kitabo me ye tafseel nahi lekin kutube mabsoota dekhne se ma’loom hota hai ki Janab e Hurr Namaz e zuhr k hungama e rastkhaiz k baad darja e rafiyya shahadat par faez hue. Isliye Janab Habib bin mazahir ki shahadat k baad janab Hurr jazba e shahadat se sarshaar hoke maidane kaarzaar me ye rajz padhte hue doosri baar nikle –
الیت لا اقتل حتی اقتلا
اضربھم بالسیف ضربا معضلا
لا ناقلا عنھم ولا معمللا
لاحاجزا عنھم ولا مبدلا
احمی الحسین الماجد المؤملا
Phir aa’da ki safon k bilmuqabil pahunch kar ye rajz padha –
انی انا الحر و نجل الحر
اشجع من ذی لبد ھزبر
ولست بالجبان عند الکر
لکننی الوتاف عند الفر

Janab e Zuhair bhi aap k sath shareek e jehaad ho gaye. Aur dono ne badh badh kar koofiyo ko waasile jehennum karna shuru kiya. Agar ek nargha e aa’da me ghir jata tha to doosra use chhurhata tha. Ayyoob ibne mashrah khaiwani ne Janab e hurr k ghorhe ki koonche kaat di. Ghorha girne laga to janab e hurr biphre hue sher ki tarah jast laga kar utar pade aur phir pyaada pa jang jang shuru ki. Isi isna mein Hurr ne kuch 40 se zyada jehennumiyo ko aur kuch k mutabiq 80 ko jehennum bheja.

Kuch waqt yahi kaifiyat jaari rahi. Magar thodhi dair k baad dushman ki pyaada fauj ne Janaab e Hurr ko is tarah se ghaire me le liya ke Zuhair ka difaa karna bhi bekaar sabit hua. Ayyoob ibne mashrah khaiwani aur shahsawarane koofa me se ek shakhs ne mil kar unhe Shaheed kar diya. As’haabe Husain (as) unki laash uthakar khidmat e Imam me laaye. Imam ne unko dekh kar farmaya : iska qatl ambiya aur awlade ambiya ki tarah hai.
Abhi unme kuch hayat baaqi thi. Aanjanab ne unke chehre se khoon saaf karte hue farmaya: waqian tum Hurr(azaad) ho. Jaisa ki tumhari maa ne tumhara naam rakha tha. tum dunya wa akhirat me bhi Hurr (azaad) ho. Uske baad Janaab e Sayyid us shuhada ne Hurr ka ye marsiya padha :
لنعم الحر حربنی ریاح
صبور عند مشتبک الرماح
ونعم الحر اذ نادی حسینا
وجاد بنفسہ عند الصباح

Kitab farsaan ul haija (page 127)aur nasiq tawareeq (jild 2, page 251) me neeche diye teen aur ash’aar bhi hai:

ونعم الحر فی رھج المنایا
اذا البطال تخفق بالصفاح
ونعم الحر اذ واسی حسینا
وفاز بالھدایۃ والفلاح
فیا رب اضفہ فی جنان
وزوجہ مع الحور الملاح
…………..
Kitab: Saa’dat ud darain fi Maqtal Al Hussain
Ayatollah Muhammad Hussain Najafi (hfz)
.
.
.
Tehreer Aadil Abbas

As’haabe Husain, Part 1

As’haab e Hussain, Part 1

Abdullah bin Umair kalbi

Naam Abdullah bin Umair bin Abbas bin Abd qais bin aleem bin janab Al kalbi Al aleemi hai aur kunniyat abu wahab hai. Janab Sheikh toosi ne fehrist me inhe janab e Ameer(as) ke as’haab mein se shumaar kiya hai. Koofa me muhalla bani hamdaan k nazdeek chah saad k paas ghar tha. Jis mein apni biwi umme wahab k sath(jo bani maz bin qasit se thi) rehte the. Usne Ek din maqaame naqeela k paas(jo ke koofa se bahar tha) logo ko jamaa hote dekha. Pata karne par ma’loom hua ki ye log Husain bin Fatima binte Rasool (sawa) k sath jang k liye bheje jarahe hai’n. Abdullah ne (dil mein) kaha : bakhuda mai husool e sawab wa sa’adat ki khaatir mushriko se jang karne ki badi chah rakhta tha. Mai samajhta hun Rasool ki beti ke farzand se jang karne walo k khilaf jang karne ka sawab kuffaar aur mushrikeen k sath jang jihaad karne se zyada hi hoga. Isliye Abdullah ghar pahuncha aur apni naik biwi se apne irade ka izhar kiya, usne iske irade ki taaeed karte hue use bhi sath le jane ko kaha. Isliye Abdullah use hamrah lekar aathvi Muharram ki shab ko Imam Husain as ki khidmat mein pahunch gaya. Roze ashoora tak khidmate Imam me raha. Roze ashoora jab pisare saad k teer maarne se jang ki shuruaat hui. Aur is pehle hamle mein kaafi ansaar e Husain maut se hamkinar bhi ho gaye to iske baad mubarezat talbi ka silsila shuru hua. Pehle pehel fauj mukhalif se do aadmi nikal kar mubarezat talab hue. Ek zyaad bin abeeh ka azaad kiya ghulam yasaar, doosra ubaidullah bin zyaad ka ghulaam saalim bin amro. Idhar husaini jamaat se janab Habib bin mazahir aur janab Burair bin khuzair uthe. Magar Imam Hussain ne unko rok diya. Itne mein janab Abdullah bin Umair kalbi ne izne jihaad talab kiya. Imam ne uske qad o qaamat par nigaah daali dekha ki gandum rang, lamba qad, taqatwar kalaiya aur chaurhe kaandho wala jawan hai. Phir farmaya : mera khayal hai ki ye muqabela me aane walo ko khoob qatl karega. Khulasa e kalaam ye ki Imam ne use izne jihaad de diya aur Abdullah maidan me nikle. Un dono ne Abdullah se naam wa nasab daryaft kiya. Abdullah ne apna hasab wa nasab bayan kiya. Unhone kaha : ham tumhe nahi pehchante. Hamare muqable mein Zuhair bin Qain ya Habib bin Mazahir ya Burair bina khuzair ko bhejo. Yasaar, saalim k aage tha. Janab Abdullah ne ye keh kar ki : Ae zane zaaniya ke bete! Tum mere muqable se peechhe hat rahe ho? Phir us par hamla kar diya. Aur talwar uske jism me ghop di. Wo use qatl karne me mashghool tha ki saalim ne us par hamla kar diya. Ashaab e husaini ne pukaar kar kaha : khayal karna ghulaam ne tum par hamla kar diya hai. Janab Abdullah ne uski koi parwah na ki. Jab Yasaar ko waasile jehennum kar diya to saalim ki taraf mutawajjo hua. Saalim ne talwar ka war kiya, Abdullah ne apne baaen hath par use roka, jis se uske hath ki ungliya kat gayi magar iske bawajood Abdullah ne jawab me aisa sakht waar kiya ki saalim jehennum raseed ho gaya. In dono ko jehennum bhejna k baad Abdullah ye rajz padhne laga :
—————————————————-
ان تنکرونی فانا ابن الکلبی
حسبی ببیعتی فی عُلیم حسبی
انی امرء ذر مرۃ وعصب
ولست بخوار عندالنکب
انی زعیم لک ام وھب
بالطعن فیھم مقدما والضرب
ضرب غلام مؤمن بارب
Agar Tum mujhe nahi pehchante, mai kalb ka farzand hun
Mere nisbat k liye kaafi hai ki mai ulaim se hun
Mai ek bahadur aur taqatwar mard hun
Aur peechhe nahi hat ta jab mushkilo se ghir jaun
Ae umm e wahab, mai yaqeen dilata hun
Ki aage badh kar, waar karta rahunga
Us bande ki tarah jo emaan me kamil ho
—————————————————
Ye rajz ye ashaar sun kar unki biwi umme wahab ne ek gurz hath me liya aur ye kehti hui ke “mere baap tum par qurban hon zurriyat e paighambar k liye khoob jang karo” apne shauhar ki taraf maidan e kaarzaar me badhi. Abdullah ne unhe wapas karna chaha. Magar usne Abdullah ka kapda pakad kar kaha ki mai us waqt tak tumse juda na hongi jab tak tumhare sath jaame shahadat na pee lun. Ye kaifiyat dekh kar Hazrat Imam Hussain ne buland awaaz farmaya “khuda tumhe jaza e khair de. Aurto ki taraf palat aao, khuda tum par rehem kare unke sath baith jao, kyunki aurto par jihaad nahi hai” hukm e Imam sun kar wo momina wapas laut aayi.

Udhar chunki fauj e mukhalif se phir koi mubariz na nikla. Isliye janab Abdullah bhi khidmat e Imam me wapas aa gaye. Iske baad janab Muslim bin awsaja maidan jang me gaye(jiski tafseel baad me ki jaegi) aur us waqt Shimr bin zil jaushan ne fauj k maisara se Husaini sipaah k maisara par hamla kiya. Aur ashaab e husaini ne badi paamardi se muqabela kiya. Us waqt us jang maghlooba mein Janab e Abdullah bin Umair ne phir khoob daade shuja’at di. Mukhalif ke aur do sipahiyo ko waasile jehennum kiya. Uske baad haani bin subait hazrami aur bukair ibne haiyy tameemi k hatho shahadat k darja e rafiya par faez hua. Jab uski biwi umme wahab ne ye manzar dekha to taabe zabt na rahi. Maidane kaarzaar mein pahunch kar apne azeez shauhar ke chehre se gard o ghubaar saaf karna shuru ki aur saath hi ye kehti jaati thi “tumhe jannat mubarak ho! Jis khuda e buzurg wa bartar ne tumhe shahadat ka darja ata farmaya hai us se dua karo ki mujhe bhi tumhare sath bula le. Shimr ne apne ghulaam rustam se kaha ki uske sar par gurz maar kar uska kaam tamaam kar do. Isliye us shaqi ne is mazlooma ko shahid kar diya. Is tarah us mohtaram khaatoon ka khoon e nahaq bhi tasveer e karbala me rang bharne k kaam aaya.

چہ خوش رسمے بنا کردند بخاک و خون غلطیدن
خدا رحمت کند ایں عاشقان پاک طینت را

i)Zakheerat ud darain, page 204
ii)Farsaan ul haija dar halaat e as’haab e Sayyid us Shuhada, page 253
iii)Kamil, jild 3, page 289
.
Kitab : Saadat ud darain fi Maqtal Al Husain
Ayatollah Muhammad Hussain Najafi (hifzullah)
.
Tehreer Aadil Abbas

توسل اور ہمارے عوام میں نئے کمزور توحیدی افراد کا دخل

توسل اور ہمارے عوام میں نئے کمزور توحیدی افراد کا دخل

مسئلہ یہ کہہ دینے سے کہ معصومین کی دعائیں ہیں انہوں نے کسی سے توسل نہیں کیا ہمیں ان کی ہی پیروی کرنی چاہیے، حل نہیں ہوتا. غور و فکر بھی کسی شئی کا نام ہے

پہلی بات معصوم خود وسیلہ ہیں اور قرب کی اعلی ترین منزل پر فائز ہیں انہیں کسی وسیلہ کی ضرورت نہیں پھر بھی معصومین اپنی اکثر دعاؤں میں توسل کرتے ہیں ایک دوسرے کے زریہ یعنی اپنے سے بزرگ ذوات پہ درود بھیج کر اور ان کا واسطہ دیکر جو کہ اہل بیت میں سے ہی ہیں، خود ہی سے ان دعاؤں کی طرف رجوع کر کے دیکھ لیں جو آیمہ نے تعلیم کہ ہیں.

اب اس حالت میں آئمہ کرام سے موازنہ کرنا نری جہالت ہے. جب قرب کے کامل ترین منازل پر فائز ذوات ایک دوسرے کو وسیلہ بناتی ہیں تو ہم کون ہیں جو وسیلہ پہ شک کر سکتے ہیں جو لوگو شک میں مبتلا ہیں انہیں کافی غور و فکر کرنا چاہیے، آئمہ کی دعائیں سرف ہمیں حاجات برآری کا ذریعہ نہیں بتا رہی بلکہ مکمل درس ہیں، لیکن سادہ لوح عوام علماء کرام کی تعلیمات سے دور رہ کر پتا نہیں کس جگہ سے بوسیدہ افکار حاصل کر رہے کہ اب انہیں توسل پہ شک ہونے لگا ہے، ان کے ذہنوں میں یا علی، یا محمد جیسے کلمات کہنے میں شرک نظر آتا ہے؟

حوش کے ساتھ کام لینے کی ضرورت ہے، علم کی ضرورت ہے، اور ہمیں عقائد سہی جگہ سے سمجھنے کی ضرورت ہے جو کہ ہمارے مراجعین کرام ہیں.

خدایا ہمیں توفیق دے کہ ہم علم حاصل کر سکیں اور اس پہ عمل کر سکیں..

नसीहते अली : हिस्सा 1

1: फ़ितना व फ़साद में इस तरह रहो जिस तरह ऊँट का वह बच्चा जिस ने अभी अपनी उम्र के दो साल ख़त्म किये हों कि ना तो उसकी पीठ पर सवारी की जा सकती है और ना उसके थनों से दूध दोहा जा सकता है।

अरबी :
قالَ علیہ السلام : کُن فی الفِتنَة کَابنِ اللَّبُونِ لَا ظَهرٌ فَیُرکَبَ، وَلَا ضَرعٌ نَیُحلَبَ

———————
नहजुल बलाग़ा
मुफ़ती जाफ़र हुसैन
———————

लबून दूध देने वाली ऊंटनी को और इब्ने लबून उसके दो साला बच्चे को कहते हैं और वह इस उम्र में ना सवारी को क़ाबिल होता है, और ना ही उसके थन होते हैं कि उनसे दूध दोहा जा सके। उसे इब्ने लबून इसलिए कहा जाता है कि इस दो साल के वक़्त में उसकी माँ आम तौर पर दूसरा बच्चा देकर दूध देने लगती है।

मक़सद यह है कि इंसान को फ़ितना व फ़साद के मौक़े पर इस तरह रहना चाहिए कि लोग उसे नाकारा समझ कर नज़र अन्दाज़ कर दें, और किसी गिरोह में उसकी शिरकत की ज़रूरत महसूस ना हो। क्योंकि फ़ितनों और हंगामों में अलग थलग रहना ही तबाह कारियों से बचा सकता है। हालांकि जहां हक़(सच) व बातिल(झूठ, ज़ुल्म) का टकराव हो वहाँ पर निष्पक्ष रहना सही नहीं और ना इसे फ़ितना व फ़साद की श्रेणी में रखा जा सकता है। बल्कि ऐसे मौक़े पर हक़(सच) की हिमायत और बातिल(झूठ, ज़ुल्म) को मिटाने के लिए खड़ा होना वाजिब(ज़रूरी) है जैसे जमल व सिफ़्फ़ीन की जंगों में हक़ का साथ देना ज़रूरी और बातिल से मुक़ाबला करना ज़रूरी था।
————————————————-

Fb Page : https://m.facebook.com/Farzandewilayat/

तफ़सीर : सूरह फ़लक़

सूरह फ़लक़

सूरह फ़लक़ के मतालिब(अर्थ) और उसकी फ़ज़ीलत

एक जमात का नज़रिया यह है कि यह सूरह मक्का में नाज़िल हुआ अगर से मुफ़स्सिरीन की एक जमात इसे मदनी समझती है। इस सूरह के मतालिब ऐसी तालीमात(शिक्षाएं) हैं जो ख़ुदा ने पैग़म्बर अकरम(सअ) को ख़ासकर के, और सब मुसलमानों को आम तौर से, तमाम अशरार(बुराइयां) के शर(बुराई) से, उस की ज़ाते पाक से पनाह मांगने के सिलसिले में दी हैं, ताकि ख़ुद को उस के सुपुर्द कर दें और उसकी पनाह में हर साहिबे-शर मौजूद के शर से अमान में रहें।
(मुफ़स्सिरीन : व्याख्या करने वाले, अर्थों को ज़्यादा गहराई से समझाने वाले)

इस सूरह के शाने नुज़ूल के बारे में अक्सर तफ़सीर की किताबों में कुछ रिवायात नक़्ल हुई हैं जिन के मुताबिक़ कुछ यहूदियों ने पैग़म्बर अकरम पर जादू कर दिया था, जिस से आप बिमार हो गए थे। जिबरईल नाज़िल हुए और जिस कुंवे में जादू का सामान छुपाया हुआ था उस जगह की निशानदेही की, उसे बाहर निकाला गया, फिर इस सूरह की तिलावत की तो पैग़म्बर(सअ) की हालत बेहतर हो गई।
लेकिन मरहूम तबरसी और कुछ दूसरे मुहक़्क़िक़ीन(रिसर्चर) ने इस क़िस्म की रिवायात को, जिन की सनद सिर्फ़ “इब्ने अब्बास” (रज़) और “आएशा” (रज़) तक रुकती है, क़ाबिले एतराज़ समझा है और दुरुस्त क़रार नहीं दिया, क्योंकि :
एक: यह सूरह मशहूर क़ौल(saying) के मुताबिक़ मक्की है और इसका लब व लहजा भी मक्की सूरतों वाला है, जब कि पैग़म्बर (सअ) का यहूदियों से वास्ता मदीने में पड़ा और ख़ुद यही बात इस क़िस्म की रिवायात की सही ना होने की एक दलील है।
दूसरी तरफ़ अगर पैग़म्बर अकरम (सअ) पर जादूगर इतनी आसानी के साथ जादू कर लिया करें कि वह बिमार पड़ जाएं और बिस्तरे मर्ज़ पर आ जाएं तो फिर यह भी मुमकिन है कि वह आप(सअ) को आप के अज़ीम मक़सद से आसानी से रोक दें। पूरी तौर पर वह ख़ुदा जिस ने आप को इस क़िस्म का मिशन और अज़ीम रिसालत के लिए भेजा है, वह आप को जादूगरों के जादू के असर से भी महफ़ूज़ रखेगा ताकि नुबुव्वत का बुलन्द मुकाम उनके हाथ में बच्चों का खेल ना बने।
तीसरे अगर यह मान लिया जाए कि जादू पैग़म्बर(सअ) के जिस्म में असर-अन्दाज़ हो सकता है, तो फिर मुमकिन है कि लोगो के दिमाग़ में यह वहम पैदा हो जाए कि जादू आपकी रूह में भी असर-अन्दाज़ हो सकता है, और यह मुमकिन है कि आपके विचार जादूगरों के जादू का शिकार हो जाएं। यह माअना(अर्थ) पैग़म्बर (सअ) पर भरोसे की अस्ल को अाम लोगों की फ़िक्रों में कमज़ोर कर देंगे।
इस लिए क़ुरआन मजीद इस माअना से इंकार करते है कि पैग़म्बर(सअ) पर जादू किया गया हो, फ़रमाता है :
وَقَالَ الظَّالِمُونَ إِن تَتَّبِعُونَ إِلَّا رَجُلًا مَّسْحُورًا ﴿٨﴾
انظُرْ كَيْفَ ضَرَبُوا لَكَ الْأَمْثَالَ فَضَلُّوا فَلَا يَسْتَطِيعُونَ سَبِيلًا ﴿٩﴾
“और ज़ालिमों ने कहा तुम तो एक सहर-ज़दा शख़्स की पैरवी करते हो, देखो तो सही! तेरे लिए उन्होंने कैसी कैसी मिसालें बयान की हैं और ऐसे गुमराह हुए हैं की रास्ता पर ही नहीं सकते। (सूरह फ़ुरक़ान, 8,9)
मसहूर(مسحور) चाहे यहाँ उस शख़्स के माअना में हो जिस पर अक़्ली लिहाज़ से जादू किया गया हो या उसके जिस्म पर, दोनों सूरतों में हमारे मक़सद पर दलील है।
बहरहाल ऐसी शक भरी रिवायत के साथ मक़ामे नुबुव्वत की क़ुदरत पर एतराज़ नहीं किया जा सकता और ना ही आयात समझने के लिए इन का सहारा लिया जा सकता है।

इस सूरह की फ़ज़ीलत में पैग़म्बर अकरम(सअ) से नक़्ल हुआ है, आप ने फ़रमाया :
“मुझ पर ऐसी आयतें नाज़िल हुई हैं कि उनकी मिस्ल(example) और उनकी मानिन्द(likening) और नाज़िल नहीं हुईं, और वह दो सूरतें “फ़लक़” और “नास” हैं।(1)

एक और हदीस में इमाम मुहम्मद बाक़िर(अस) से आया है :
जो शख़्स नमाज़े वित्र में सूरह “फ़लक़” और “नास” और “क़ुलहोवल्लाहु अहद” पढ़ेगा तो उसको यह कहा जाएगा कि ऐ बन्दे ख़ुदा तुझे बशारत हो, ख़ुदा ने तेरी नमाज़े वित्र क़ुबूल कर ली है। (2)

एक रिवायत में पैग़म्बर अकरम से भी आया है कि आप ने अपने एक सहाबी से फ़रमाया :
“क्या तू चाहता है कि मैं तुझे ऐसी दो सूरतों की तालीम(शिक्षा) दूं जो क़ुरआन की सूरतों में सब से ज़्यादा अफ़ज़ल व बढ़कर हैं?
उस ने कहा : हां! ऐ रसूल अल्लाह। तो हज़रत ने उसे सूरह फ़लक़ व नास की तालीम दी। उसके बाद नमाज़े फज्र में इन्हें पढ़ा और उस से कहा, जब तो बेदार(जागे) या सोने लगे तो इनको पढ़ा कर।(3)
यह बात वाज़ेह(साफ़) है कि यह सब कुछ उन लोगों के लिए है जो अपनी रूह व जान और अक़ीदा व अमल को इसके माअनों के साथ जोड़ लें।

1: नूर उस सक़लैन, जिल्द 5, पेज 816 / मजमउल बयान, जिल्द 10,पेज 567
2, 3: नूर उस सक़लैन, जिल्द 5, पेज 816 / मजमउल बयान, जिल्द 10,पेज 567
____________________________

بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ
قُلْ أَعُوذُ بِرَبِّ الْفَلَقِ ﴿١﴾
مِن شَرِّ مَا خَلَقَ ﴿٢﴾
وَمِن شَرِّ غَاسِقٍ إِذَا وَقَبَ ﴿٣﴾
وَمِن شَرِّ النَّفَّاثَاتِ فِي الْعُقَدِ ﴿٤﴾
وَمِن شَرِّ حَاسِدٍ إِذَا حَسَدَ ﴿٥﴾

तर्जुमा :

शुरू अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है
1: कह दीजिए सफ़ेद सुबह के परवरदिगार से पनाह मांगता हूँ।
2: उन सारी चीज़ों के शर से जो उसने पैदा की हैं।
3: और हर मज़ाहमत करने वाले मौजूद के शर से जब के वह वारिद हो
4: और उनके शर से जो गिरहों में दम करते हैं।(और हर तरह के इरादा को कमज़ोर कर देते हैं।)
5: और हसद करने वाले के हसद से जब वह हसद करे।

तफ़सीर

मैं सपीदा-ए-सुबह के परवरदिगार की पनाह मांगता हूँ
(सपीदा ए सुबह : उजाला, सुबह की रौशनी)

क़ुरआन इस सूरह की पहली आयत में ख़ुद पैग़म्बर (सअ) को एक नमूना और पेशवा के शीर्षक(टाइटल) से हुक्म देता है : कह दीजिए, मै सपीदा-ए-सुबह के परवरदिगार से पनाह मांगता हूँ जो रात की स्याही को चीर देता है। उन सारी चीज़ों के शर से जो उसने पैदा की हैं।
तमाम शरीर मौजूदात के शर से, शरीर इन्सानों से, जिन्नों, हैवानों, शर के पेश आने वाले वाक़िओं और नफ़्से अम्मारा के शर से।
फ़लक़ = فلق (शफ़क़ = شفق के वज़्न पर) व (खलक़ = خلق के वज़्न पर) की जड़ से अस्ल में किसी चीज़ में दरार करने और एक को दूसरे से जुदा करने के माअना में है, और चूंकि सफ़ेदी ए सुबह के फूटने के वक़्त रात का स्याह परदा फट जाता है। लिहाज़ा यह लफ़्ज़(शब्द) तुलू-ए-सुबह(सुबह के चढ़ जाने ) के माअना में इस्तेमाल हुआ है। जैसा कि फ़ज्र =فجر का भी इसी वजह से तुलू-ए-सुबह के लिये इस्तेमाल होता है।
कुछ इसे सारे पैदा होने वाले और सारे ज़िन्दा मौजूदात के माअना में समझते हैं, चाहे वह इन्सान हो या हैवान व नबातात क्योंकि इन मौजूदात का पैदा होना, जो दाना या गुठली वग़ैरह के शिगाफ़्ता(फटना) होने से सूरत में आता है, वुजूद के अजीब-तरीन मरहलों में से है और हक़ीक़त में पैदाइश के वक़्त इस मौजूद में एक अज़ीम हरकत होती है और वह एक आलम से दूसरे आलम में क़दम रखता है।
(नबातात : पेड़ – पौधे)

सूरह अनआम की आयत 95 में आया है :
إِنَّ اللَّـهَ فَالِقُ الْحَبِّ وَالنَّوَىٰ ۖ يُخْرِجُ الْحَيَّ مِنَ الْمَيِّتِ وَمُخْرِجُ الْمَيِّتِ مِنَ الْحَيِّ ۚ
ख़ुदा दाना और गुठली को शिगाफ़ता करने वाला है, जो ज़िन्दा को मुर्दा से और मुर्दा को ज़िन्दा से ख़ारिज करता है।”
कुछ ने फ़लक़ के मफ़हूम को इस से भी ज़्यादा बड़े माअना में लिया है और इस का हर क़िस्म की आफ़रीनिश व ख़िलक़त के लिए माना है, क्योंकि हर मौजूद की आफ़रीनिश व ख़िलक़त से अदम का पर्दा चाक हो जाता है, और वुजूद का नूर ज़ाहिर व आशकार हो जाता है।
(आफ़रीनिश: अदम से वुजूद में लाना, अदम यानी बिना किसी चीज़ की मदद के या सहारे : इंशाअल्लाह आने वाले वक़्त में इस लफ़्ज पर लिखेंगे। अनुवादक )

इन तीनों माअना (तुलूए सुबह, ज़िन्दा मौजूदात का तवल्लुद, और हर मौजूद की ख़िलक़त व आफ़रीनिश) में से हर एक अजीब व ग़रीब वुजूद में आने वाली चीज़ है जो परवरदिगार और उसके ख़ालिक़ व मुदब्बिर(तदबीर करने वाला) की अज़मत की दलील है, और इस वस्फ़(ख़ासियत, सिफ़त) के साथ ख़ुदा की तौसीफ़ एक गहरा मफ़हूम व मतलब रखती है।
कुछ अहादीस में यह भी आया है कि “फ़लक़” दोज़ख़ में एक कुंवा या ज़िन्दान है, और वह जहन्नुम के बीच में एक शिगाफ़ की तरह दिखाई देता है।
यह रिवायत मुमकिन है इस के मसादीक़ में से एक मिसदाक़ की तरफ़ इशारा हो, लेकिन यह “फ़लक़” के बड़ी मफ़हूम को महदूद नहीं करती।
“मिन शररि माख़लक़” की व्याख्या का यह मतलब नहीं है कि अाफ़रीनिश व ख़िलक़त-ए-इलाही अपनी ज़ात में कोई शर रखती है क्योंकि आफ़रीनिश ख़िलक़त तो एक एजाद ही है, और एजादे-वुजूद “ख़ैर ए महज़” हैं,
क़ुरआन कहता है :
الَّذِي أَحْسَنَ كُلَّ شَيْءٍ خَلَقَهُ
वही ख़ुदा जिसने जिस चीज़ को भी पैदा किया बेहतर और ज़्यादा से ज़्यादा अच्छा करके पैदा किया। (सजदा, 7)
(ख़ैर ए महज़ : यानी सिर्फ़ अच्छा हर कमी से पाक)

बल्कि शर उस वक़्त पैदा होता है जब मख़लूक़ात क़ानूने-ए-अाफ़रीनिश से बहक जाएं और तय किये गये रास्ते से अलग हो जाएं। मिसाल के तौर पर डंक और जानवरों के काटने वाले दांत एक बचाव का हरबा हैं, लेकिन अगर यह बिना मौक़ा और दोस्त ही के मुक़ाबले में इस्तेमाल होने लगें तो फिर शर और बुराई हैं।
बहुत ऐसी बाते हैं, जिन्हें हम ज़ाहिर में शर समझते हैं, लेकिन वह बातिन में ख़ैर हैं मिसाल के तौर पर बेदार करने वाले और होशियार व ख़बरदार करने वाले हवादिस बलाएं और मसाएब, जो इन्सान को ख़्वाबे ग़फ़लत से बेदार करके ख़ुदा की तरफ़ मुतवज्जे करते हैं, यह पूरे तौर पर शर नहीं हैं।
उसके बाद इस मतलब की तौज़ीह व तफ़सीर में मज़ीद कहता है : और हर मज़ाहमत करने वाले मौजूद के शर से जब के वह वारिद होता है। وَمِن شَرِّ غَاسِقٍ إِذَا وَقَبَ

ग़ासिक़िन (غاسق), ग़सक़ (غسق) [शफ़क़ (شفق) के वज़्न पर] की जड़ से “मुफ़ररदात” में राग़िब के कहने के मुताबिक़, रात की ज़ुलमत की उस शिद्दत के माअना में है जो आधी रात के वक़्त होती है, इसी लिए क़ुरआन मजीद नमाज़े मग़रिब के ख़त्म होने के वक़्त की तरफ़ इशारा करते हुए फ़रमाता है : الی غسق اللیل और यह जो लुग़त की कुछ किताबों में غسق की शुरू शब की तारीकी के माअना में तफ़सीर हुई है, दूर नज़र आता है, ख़ास कर जब कि इस का अस्ली रेशा और जड़, भर जाने और बहने के माअना में है, और पूरी तौर पर रात की तारीकी इस वक़्त ज़्यादा यानी भरपूर होती है जब आधी रात हो जाए। इस के मफ़ाहीम में से एक, जो इस माअना का लाज़मा है, हुजूम करना और हमलावर होना है, इसलिए इस माअना में भी हुआ है।

इस बिना पर इस आयत में “ग़ासिक़” (غاسق) के माअना या तो हमला करने वाला शख़्स है, या हर वह शरीर मौजूद है जो हमला करने के लिए रात की तारीकी से फ़ायदा उठाता है, क्योंकि ना सिर्फ़ दरिंदे और डंक मारने वाले जानवर ही रात के वक़्त अपने बिलों और ठिकानों से बाहर निकल आते हैं, बल्कि शरीर व नापाक और पलीद लोग भी अपने बुरे मक़सदों के लिए आम तौर पर रात की तारीकी से फ़ायदा उठाते हैं।

वक़ब وقب, (शफ़क़: شفق के वज़्न पर) (नक़ब : نقب के वज़्न पर) के माद्दे (जड़) से गढ्ढे और ख़न्दक़ के माअना में है। इस के बाद इसका फ़ेल गढ्ढे में दाख़िल होने के माअना में इस्तेमाल होने लगा। हालांकि शरीर और नुक़सान पहुंचाने वाले मौजूदात रात की तारीकी से फ़ायदा उठाते हुए नुक़सान पहुंचाने वाले गढ्ढे खोदकर अपने पलीद और गन्दे मक़सदों को पूरा करने के लिए काम करते हैं। या यह है कि यह ताअबीर “नुफ़ूज़ करने” की तरफ़ इशारा है।

इसके बाद और कहता है : “और उनके शर से जो गिरहों में दम्म करते हैं”
وَمِن شَرِّ النَّفَّاثَاتِ فِي الْعُقَدِ

“नफ़्फ़ासात : نفّثات”, “नफ़स : نفث” (हबस के वज़्न पर) के माद्दे से अस्ल में थोड़ी सी मात्रा में थूकने के माअना में है और चूंकि यह काम फूंक मारने के साथ अन्जाम पाता है, लिहाज़ा “नफ़स” “नफ़ख़” (फूँकने और दम्म करने) के माअना में भी आया है।

लेकिन बहुत से मुफ़स्सिरीन ने “नफ़्फ़ासात” की “जादूगर औरतों” के माअना में तफ़सीर की है। [नफ़्फ़ासात जमए मुअन्नस (प्लूरल फ़ेमिनिन) है] और इसका मुफ़रद(सिंग्युलर) “نفاثتہ : नफ़्फ़ासा”, “نفث : नफ़स” के माद्दे से सीग़ा-ए-मुबालिग़ा(अतिशयोक्ति) है। वह औरतें कुछ औराद पढ़ती थी और गिरहों पर दम्म किया करती थी और इस तरह वह जादू करती थी, लेकिन कुछ लोग इसे वसवसे पैदा करने वाली औरतों की तरफ़ इशारा समझते हैं जो लगातार मर्दों के, ख़ासकर अपने शौहरों के कान भरती रहती थी, ताकि सही कामों के अन्जाम देने में उनके मज़बूत इरादों को कमज़ोर कर दें और इस क़िस्म की औरतों के वसवसों ने इतिहास में कैसे कैसे हादसों को जन्म दिया, कैसी कैसी आग भड़काई, और कैसे कैसे मज़बूत इरादों को कमज़ोर करके रख दिया।

फख़्र राज़ी कहता है : औरतें मर्दों के दिलों में अपनी मुहब्बत के नुफ़ूज़ की बिना पर तसररुफ़ कर लेती हैं।
(तफ़सीर फख़्र राज़ी, जिल्द 32, पेज 196)
(नुफ़ूज़ : दाख़िल होना)
(तसररुफ़ : दख़्ल, किसी काम में हाथ डालना)

यह माअना हमारे ज़माने में हर वक़्त से ज़्यादा ज़ाहिर है क्योंकि दुनिया की सियासत दानों में जासूसों के नुफ़ूज़ करने का अहमतरीन ज़रिया जासूस औरतों से फ़ायदा उठाना है, क्योंकि इन “نفاثات فی العقد” के ज़रिये पोशीदा भेदों के सनदूक़ों के ताले खुल जाते हैं और वह बहुत रहस्यों और छुपी बातों से बाख़बर हो जाती हैं, और इन्हें दुश्मन के हवाले कर देती हैं।

कुछ ने नफ़्फ़ासात की “नुफ़ूसे शरीरा” या “वसवसा पैदा करने वाली जमाअतों(गिरोहों)” के साथ भी तफ़सीर की है जो अपने लगातार प्रोपेगैन्डों के ज़रिए मज़बूत इरादों की गिरहों को कमज़ोर कर देते हैं।

कोई हैरानी की बात नही है कि यह आयत एक आम और भरपूर माअना रखती हो जो इन सारे माअना को शामिल हो, यहाँ तक कि ऐब लगाने वालों और चुगलख़ोरों की बातों को भी, जो मुहब्बत की जगहों को सुस्त, कमज़ोर और वीरान कर देते हैं।

हालांकि यह बात तवज्जो करने वाली है कि पहले की शाने-नुज़ूल को नज़र अन्दाज़ करने पर, आयत में कोई ऐसी निशानी मौजूद नहीं है कि उस से ख़ासकर जादूगरों का जादू मुराद हो और अगर हम आयत की इस तरह तफ़सीर भी करें, तो भी यह इस शाने नुज़ूल की सेहत पर दलील नहीं होगी। बल्कि यह इस बात की दलील होगी कि पैग़म्बर अकरम(सअ) जादूगरों के शर से ख़ुदा की पनाह मांग रहे हैं। ठीक उसी तरह से जैसे सही व सेहतमंद लोग कैंसर की बिमारी से पनाह मांगते हैं, चाहे वह हरगिज़ भी उसके घेराव में ना आए हों।

इस सूरह की अाख़री आयत में फ़रमाता है : “और हर हसद करने वाले के शर से जब वह हसद करे। ”

यह आयत इस बात की निशानदेही करती है कि हसद बदतरीन और क़बीह-तरीन बुरी विशेषताओं में से है, क्योंकि क़ुरआन ने इसे दरिन्दा जानवरों, डसने वाले साँपों और वसवसे डालने वाले शैतानों को कामों के साथ क़रार दिया है।

कुछ नुक्ते

1: शर व फ़साद के अहम सरचश्मे
इस सूरह के शुरू में पैग़म्बर अकरम (सअ) को हुक्म देता है कि वह सारे शरीर मख़लूक़ात के शर से ख़ुदा की पनाह मांगे, उसके बाद इसकी वज़ाहत में तीन क़िस्म के शरों की तरफ़ इशारा करता है :
i) उन तारीक दिल हमला करने वालों के शर से जो तारीकियों से फ़ायदा उठाते हुए हमलावर होते हैं।
ii) उन वसवसा पैदा करने वालों के शर से जो अपनी बातों और बुरे प्रोपगैन्डो से, इरादों, इमानों, अक़ीदों, मोहब्बतों और रिश्तों को सुस्त और कमज़ोर कर देते हैं।
iii) और हसद करने वालो के शर से।
इस इजमाल व तफ़सील से यही मालूम होता है कि बड़े बड़े शुरूर व आफ़ात का सरचश्मा यही हैं, और शर व फ़साद के अहमतरीन मनाबे यही तीनों हैं। और यह बात बहुत ही माअना से भरी और क़ाबिले ग़ौर है।

2: आयात का एक दूसरे से रिश्ता
तवज्जो करने वाली बात यह है कि इस सूरह की पहली आयत में पैग़म्बर अकरम (सअ) को हुक्म देता है कि शर वाली मौजूदात के शर से “फ़लक़” के परवरदिगार से पनाह मांग। “رب فلق” का चुनाव शायद इसी बिना पर है कि शरीर मौजूद सलामती व हिदायत के नूर और रौशनी को दूर कर देते हैं, लेकिन फ़लक़ का परवरदिगार ज़ुलमतों(अन्धेरों) और तारीकियों को शिगाफ़्ता करने वाला है।

3: जादू का असर
हमने पहली जिल्द में, सूरह बक़रा की आयत 102, 103 के बारे में, पिछले और मौजूदा ज़माने में जादू की हक़ीक़त के बारे में, और इस्लाम की नज़र में जादू के हुक्म, और उसके असर करने की कैफ़ियत के सिलसिले में तफ़सीली बहस की है। और इन बहसों में हमने जादू के असर को मुख़्तसर(कम) तौर पर क़ुबूल किया है, लेकिन इस सूरत में नहीं, जैसा कि ख़याली पुलाव पकाने वाले, और बेहूदा लोग इसके बारे में बाते करते हैं। ज़्यादा वज़ाहत के लिए उसी बहस की तरफ़ रुजू करें।
लेकिन वह नुक्ता जिसका यहाँ ज़िक्र करना ज़रूरी है यह है कि अगर वह जिस आयत पर बहस हो रही उस में पैग़म्बर अकरम (सअ) को हुक्म दे रहा है कि जादूगरों के जादू या उसकी तरह चीज़ों से ख़ुदा की पनाह मांगो तो इसका मतलब यह नहीं है कि पैग़म्बर (सअ) पर उन्होंने जादू कर दिया था। बल्कि इसकी ठीक मिसाल यह है कि पैग़म्बर (सअ) हर क़िस्म की ग़लती और ख़ता व गुनाह से भी ख़ुदा की पनाह मांगते थे। यानी ख़ुदा के लुत्फ़ से फ़ायदा उठाते हुए इन ख़तरों से बचे रहें। और अगर ख़ुदा का लुत्फ़ ना होता तो आप पर जादू के असर करने का इम्कान था। यह बात तो एक तरफ़ रही।
दूसरी तरफ़ हम पहले ही यह बयान कर चुके हैं कि इस बात के लिए कोई दलील नहीं है कि “النفاثات فی العقد” से मुराद जादूगर हों।

4: हासिदों का शर
“हसद” एक बुरी शैतानी आदत है जो अलग अलग बातों जैसे इमान की कमज़ोरी, तंग-नज़री और बुख़्ल की वजह से इन्सान में पैदा हो जाती है और इसका मतलब दूसरे शख़्स की नेमत के ज़वाल की दरख़्वास्त और आरज़ू करना है हसद बहुत से गुनाहाने कबीरा का सरचश्मा है।
हसद, जैसा कि रिवायात में आया है, इन्सान के ईमान को खा जाता है और उसे ख़त्म कर देता है, जैसा कि दीमक लकड़ी को खा जाती है।

जैसा कि इमाम मुहम्मद बाक़िर (अस) फ़रमाते हैं :
“ان الحسد لیاکل الایمان کما تاکل النار الحطب”
(बिहार उल अनवार, जिल्द 73, पेज 237)

एक और हदीस में इमाम जाफ़र सादिक़ (अस) से अाया है :
“افة الدين الحسد والعجب والفخر”
“हसद” “ख़ुद को बड़ा समझना” और एक दूसरे पर “फख़्र” करना, दीन के लिए आफ़त है।
(बिहार उल अनवार, जिल्द 73, पेज 248)

इसकी वजह यह है कि हसद करने वाले हक़ीक़त में ख़ुदा की हिकमत पर ऐतराज़ करता है कि उसने कुछ लोगों को नेमतों से क्यों नवाज़ा है? और उन्हें अपनी इनायत में शामिल क्यों क़रार दिया है? जैसा कि सूरह निसा की आयत 54 में आया है :
أَمْ يَحْسُدُونَ النَّاسَ عَلَىٰ مَا آتَاهُمُ اللَّـهُ مِن فَضْلِهِ

हसद का मामला मुमकिन है कि इस हद तक पहुंच जाए कि महसूद से नेमत के ज़वाल के लिए हासिद ख़ुद को पानी और आग तक में डालकर नाबूद कर ले, जैसा कि इसके नमूने दास्तानों और इतिहास में मशहूर हैं।

हसद की निंदा में बस यही काफ़ी है कि दुनिया में जो सबसे पहला क़त्ल हुआ वह “क़ाबील” की तरफ़ से “हाबील” पर “हसद” करने की वजह से हुआ था।
“हसद करने वाले” हमेशा ही अम्बिया व औलिया की राह में रुकावटें डालते रहें हैं, इसी लिए क़ुरआन मजीद पैग़म्बर (सअ) को यह हुक्म दे रहा है कि वह हासिदों के शर से ख़ुदा और रब्बे फ़लक़ से पनाह मांगे।
अगर से इस सूरह में और बाद वाले सूरह में ख़ुद पैग़म्बर (सअ) की ज़ात मुख़ातिब है, लेकिन पूरी तौर पर इस से नमूना और उसवा मुराद है, और सब लोगों को हासिदों के शर से ख़ुदा की पनाह मांगनी चाहिए।
ख़ुदावन्दा! हम भी हासिदों के शर से तेरी मुक़द्दस ज़ात से पनाह मांगते हैं।
परवरदिगार! हम तुझ से यह दरख़्वास्त करते हैं कि तू हमें भी दूसरों पर हसद करने से महफ़ूज़ रख।
बारे इलाहा! हमें نفّاثات في العقد और राहे हक़ में वसवसे डालने वालों के शर से भी महफ़ूज़ रख।
आमीन
_______________________________
तफ़सीर ए नमूना
सूरह फ़लक़
__________
अनुवादक : आदिल अब्बास
_______________________________

Sunday May 29, 2016
10:37 AM

तक़य्या का मक़सद

तक़य्या का मक़सद क्या है?

तक़य्या एक दिफ़ाई(बचाव) ढाल
यह सही है कि इन्सान कभी बुलंद मक़सदों, शराफ़त के बचाने, और हक़ की ताक़त और बातिल को मिटाने के लिए अपनी अज़ीज़ जान क़ुरबान कर सकता है, लेकिन क्या कोई अक़्ल वाला यह कह सकता है कि इन्सान के लिए बग़ैर किसी ख़ास मक़सद के अपनी जान को ख़तरे में डालना जाएज़ है?!
इस्लाम ने साफ़ तौर पर इस बात की इजाज़त दी है कि अगर इन्सान की जान, माल और इज़्ज़त ख़तरे में हो और हक़ के इज़हार से कोई ख़ास फ़ायदा ना हो, तो वक़्ती तौर पर हक़ का इज़हार ना करे बल्कि छुपे तरीक़ों से अपनी ज़िम्मेदारी को पूरा करता रहे, जैसा कि क़ुरआन मजीद के सूरह आले इमरान की आयत नम्बर 28 इस बात की निशानदेही करती है (1) या दूसरे शब्दों में सूरह नहल में इरशाद होता है :
( ﻣَﻦْ ﮐَﻔَﺮَ ﺑِﺎﷲِ ﻣِﻦْ ﺑَﻌْﺪِ ِﯾﻤَﺎﻧِﮧِ ِﻻَّ ﻣَﻦْ ُﮐْﺮِﮦَ ﻭَﻗَﻠْﺒُﮧُ ﻣُﻄْﻤَﺌِﻦّ ﺑِﺎﻟِْﯿﻤَﺎﻥ ) ( ٢ )
जो शख़्स भी अल्लाह पर इमान लाने के बाद कुफ़्र अपना ले सिवाय उसके जो कुफ़्र पर मजबूर कर दिया जाए और उसका दिल इमान की तरफ़ से इत्मिनान में हो। (2)
(2) सूरह नहल, आयत 106

] ١ )] ﻻَﯾَﺘَّﺨِﺬْ ﺍﻟْﻤُﺆْﻣِﻨُﻮﻥَ ﺍﻟْﮑَﺎﻓِﺮِﯾﻦَ َﻭْﻟِﯿَﺎﺉَ ﻣِﻦْ ﺩُﻭﻥِ ﺍﻟْﻤُﺆْﻣِﻨِﯿﻦَ ﻭَﻣَﻦْ ﯾَﻔْﻌَﻞْ ﺫَﻟِﮏَ ﻓَﻠَﯿْﺲَ ﻣِﻦْ ﺍﷲِ ﻓِﯽ ﺷَﯿْﺊٍ ِﻻَّ َﻥْ ﺗَﺘَّﻘُﻮﺍ ﻣِﻨْﮩُﻢْ ﺗُﻘَﺎﺓً … )
ख़बरदार साहिबाने इमान, मोमिनीन को छोड़कर कुफ़्फ़ार को अपना वली व सरपरस्त ना बनाएं कि जो भी ऐसा करेगा उसका ख़ुदा से कोई रिश्ता ना होगा मगर यह तुम्हें कुफ़्फ़ार से खौफ़ हो तो कोई हर्ज भी नहीं है”।(1)
सूरह आले इमरान, आयत 28

हदीस और इतिहास की किताबों में जनाब “अम्मार यासिर” और उन के मां बाप का वाक़िआ सब कुछ सामने है, जो मुशरिकीन और बुत परसतों को हाथों क़ैद हो गए थे, उन को सख़्त तकलीफें पहुंचाई गई थीं ताकि इस्लाम से दूरी बनाए, लेकिन जनाब अम्मार के मां बाप ने ऐसा नहीं किया जिस की बिना पर मुशरिकीन ने उनको क़त्ल करो दिया, लेकिन जनाब अम्मार ने उनकी मर्ज़ी के मुताबिक़ अपनी ज़ुबान से सब कुछ कह दिया, और ख़ौफ़े ख़ुदा की वजह से रोते हुए पैग़म्बर अकरम की ख़िदमत में हाज़िर हुए, [वाक़िआ बयान किया] तो रसूल अकरम ने उनसे फ़रमाया : अगर फिर कभी ऐसा वाक़िआ पेश आए तो जो तुम से कहलाएं कह देना, और इस तरह रसूल अकरम ने उनके ख़ौफ़ व परेशानी को दूर कर दिया।
ज़्यादा ध्यान देने के क़ाबिल एक दूसरी बात यह है कि तक़य्या का हुक्म सब जगह एक नहीं है बल्कि कभी वाजिब, कभी हराम और कभी मुबाह होता है।

तक़य्या करना उस वक़्त वाजिब है जब बिना किसी अहम फ़ायदे के इन्सान की जान ख़तरे में हो, लेकिन अगर तक़य्या बातिल की तरवीज, लोगों की गुमराही और ज़ुल्म व सितम की मज़बूती की वजह बन रहा हो तो इस सूरत में हराम और मना है।

इस लिहाज़ से तक़य्या पर होने वाले एतराज़ों का जवाब साफ़ हो जाता है, दरअस्ल अगर तक़य्या पर एतराज़ करने वाले तहक़ीक़(रिसर्च) व कोशिश करते तो उनको मालूम हो जाता कि यह अक़ीदा सिर्फ़ शियों का नहीं है बल्कि तक़य्या का मसला अपनी जगह पर अक़्ल के हुक्म और इन्सानी फ़ितरत के मुताबिक़ है। (1)
किताब : अाईने मा, पेज : 364 (1)

क्योंकि दुनियाभर के सारे अक़्ल व समझ रखने वाले जिस वक़्त एक ऐसी जगह पहुंचते हैं जहां से दो रास्ते हों या तो अपने अन्दर के अक़ीदे के इज़हार नहीं करते या अपने अक़ीदे का इज़हार करके अपनी जान और माल और इज़्ज़त को ख़तरे में डाल दें, तो ऐसे मौक़े पर इन्सान तहक़ीक़ करता है कि अगर इस अक़ीदे के इज़हार से उसकी जान व माल और इज़्ज़त की क़ुरबानी की कोई अहमियत और फ़ायदा है तो ऐसे मौक़े पर फ़िदाकारी और क़ुरबानी को सही मानते हैं और अगर देखते हैं कि इसका कोई ख़ास फ़ायदा नहीं है तो अपने अक़ीदे का इज़हार नही करते हैं।

तक़य्या या मुक़ाबला की दूसरी सूरत
मज़हबी, इजतेमाई और सियासी मुबारिज़ात(लड़ाइयां) और तहरीक की तारीख़ में यह बात देखने में आती है कि जब एक मक़सद का दिफ़ा(बचाव) करने वाले अगर खुल्लम खुल्ला जंग या मुक़ाबला करें तो वह ख़ुद भी तबाह बर्बाद हो जाएँगे और उनके मक़सद भी ख़ाक में मिल जाएँगे या कम से कम उनके सामने बहुत बड़ा ख़तरा होगा जैसा कि ग़ासिब हुकूमत “बनी उमैय्या” के ज़माने में हज़रत अली (अस) के शियों ने ऐसा ही किरदार अदा किया था, ऐसे मौक़े पर सही और अक़्ली काम यह है कि अपनी ताक़त को यूंही ना जाने दें और अपने अग़राज़ व मक़सदों को आगे बढ़ाने के लिए ग़ैर-मुसतक़ीम(जो सीधा ना हो) और छुपे तरीक़े से अपने काम व तहरीक (मूवमेंट) जारी रखें, दरअस्ल तक़य्या इस तरह के मकातिब और उन के पैरोकारों के लिए ऐसे मौक़े पर जंग व मुबारज़ा की एक दूसरी शक्ल शुमार होता है जो उनको बर्बादी से निजात देता है और वह अपने मक़सदों में कामयाब हो जाते हैं, तक़य्या को ना मानने वाले लोग नहीं मालूम इस तरह के मौक़े पर क्या नज़रिया रखते हैं? क्या उन का नाबूद होना सही है या सही और मनतिक़ी(लौजिकल) तरीक़े पर इस मुबारज़े को जारी रखना? इसी दूसरे रास्ते को तक़य्या कहते हैं जबकि कोई भी अक़्ल वाला अपने लिए पहले रास्ते को पसन्द नहीं करता। (1)
तफ़सीरे नमूना, जिल्द 2, पेज 373(1)

हक़ीक़ी मुसलमान, और पैग़म्बर इस्लाम का तरबियत याफ़्ता इन्सान दुश्मन से मुक़ाबले का अजीब हौसला रखता है, और उनमें से कुछ “अम्मार यासिर के बाप” की तरह दुश्मन के दबाव पर भी अपनी ज़ुबान से कुछ कहने के लिए तैयार नहीं होते, अगर से उनका दिल इश्क़ ए ख़ुदा व रसूल से भरा होता है, यहां तक कि वह इस रास्ते में अपनी जान भी क़ुरबान कर देते हैं। उनमे से कुछ “अम्मार यासिर” की तरह अपनी ज़ुबान से दुश्मन की बात कहने के लिए तैयार हो जाते हैं लेकिन फिर भी उन पर खौफ़ ए ख़ुदा तारी होता है, और ख़ुद को ख़ताकार और गुनाहगार तसव्वुर करते हैं, जब तक ख़ुद पैग़म्बर इस्लाम (सअ) इत्मिनान नहीं दिला देते कि उनका यह काम अपनी जान बचाने के लिए शरई तौर पर जाएज़ है; इस वक़्त तक उनको सुकून नहीं मिलता!
जनाब “बिलाल” के हालात में हैं पढ़ते हैं कि जिस वक़्त वह इस्लाम लाए और जब इस्लाम और पैग़म्बर अकरम की हिमायत में दिफ़ा के लिए उठे तो मुशरिकीन ने बहुत ज़्यादा दबाव डाला, यहाँ तक कि उनको तेज़ धूप में घसीटते हुए ले जाते थे और उन के सीने पर एक बड़ा पत्थर रख देते थे और उनसे कहते थे : तुम्हे हमारी तरह मुशरिक रहना होगा।
लेकिन जनाब बिलाल इस बात पर आमादा नहीं होते थे हालाँकि उन की साँस लबों पर आ चुकी थी लेकिन उनकी ज़ुबान पर यही कलिमा था : “अहद, अहद” (यानी अल्लाह एक है, अल्लाह एक है) उसके बाद कहते थे : ख़ुदा की क़सम अगर मुझे मालूम होता कि इस कलाम से नागवारतर तुम्हारे लिए कोई और लफ्ज़ है तो मै वही कहता! (1)
तफ़सीर फ़ी ज़िलाल, जिल्द 5, पेज 284 (1)

इसी तरह “हबीब बिन ज़ैद” के हालात में मिलता है कि जिस वक़्त “मुसैलिमा कज़्ज़ाब” ने उन को गिरफ़्तार कर लिया और उनसे पूछा कि क्या तू गवाही देता है कि मुहम्मद (सअ) रसूल ख़ुदा हैं? तो उसने कहा : जी हाँ!
फिर सवाल किया कि क्या तू गवाही देता है कि मैं ख़ुदा का रसूल हूँ? तो हबीब ने उसकी बात का मज़ाक़ उड़ाते हुए कहा कि मैंने तेरी बात को नहीं सुना! यह सुन कर मुसैलिमा और उसके पैरोकारों ने उनके बदन को टुकड़े टुकड़े कर दिया, लेकिन वह पहाड़ की तरह साबित क़दम रहे। (1)
तफ़सीर फ़ी ज़िलाल, जिल्द 5, पेज 284 (1)

इस तरह के दिल हिला देने वाले वाक़िआत तारीखें इस्लाम में बहुत मिलते हैं ख़ासकर सद्रे इस्लाम के मुसलमानों और आइम्मा (अस) के पैरोकारों में बहुत से ऐसे वाक़िआत मौजूद हैं।
इसी बिना पर मुहक़क़िक़ीन(रिसर्चरों) का कहना है कि ऐसे मौक़ों पर तक़य्या ना करना और दुश्मन के मुक़ाबिल तसलीम ना होना जाएज़ है अगर से उनकी जान ही चली जाए क्योंकि ऐसे मौक़ों पर, परचम ए इस्लाम और कलिमा ए इस्लाम की सरफ़राज़ी मक़सद है, ख़ासकर पैग़म्बर अकरम (सअ) की बेसत के आग़ाज़ में इस मसले की ख़ास अहमियत थी।
लिहाज़ा इस में कोई शक नहीं है कि इस तरह के मौक़ों पर तक़य्या भी जाएज़ है और इन से ज़्यादा ख़तरनाक मौक़ों पर वाजिब है, और कुछ जाहिल और नादान लोगों के ख़िलाफ़ तक़य्या (हालांकि ख़ास मौक़ों पर ना कि सब जगह) ना तो इमान की कमज़ोरी का नाम है और ना दुश्मन के ज़्यादा होने से घबराने का नाम है और ना ही दुश्मन के दबाव में तसलीम होना है बल्कि तक़य्या इन्सान की हिफ़ाज़त करता है और मोमिनीन की ज़िन्दगी को छोटे और कम अहमियत वाली बातों के लिए बर्बाद होने नहीं देता।

यह बात पूरी दुनिया में राएज है कि मुजाहिदीन और जंगजू लोगों की अक़लियत(कम लोग); ज़ालिम व जाबिर(कठोर) अकसरियत(ज़्यादा लोग) का तख़्ता पलटने के लिए आम तौर पर ख़ुफ़िया तरीक़े पर अमल करती है, और अंडर ग्राउंड कुछ लोगों को तैयार किया जाता है और छुपे तौर पर मंसूबा बंदी होती है, कुछ वक़्त किसी दूसरे लिबास में ज़ाहिर होते हैं, और अगर किसी मौक़े पर गिरफ़्तार भी होते हैं तो उनकी अपनी गिरोह के रहस्य को छुपाने की पूरी कोशिश होती है, ताकि उनकी ताक़त फ़िज़ूल नीस्त व नाबूद ना होने पाए, और भविष्य के लिए उसको बचाया जा सके।

अक़्ल इस बात की इजाज़त नहीं देती कि मुजाहिदीन की एक अक़लियत अपने को ज़ाहिरी और खुल्लम खुल्ला पहचनवाए, और अगर ऐसा किया तो दुश्मन पहचान लेगा और बहुत ही आसानी से उनको नीस्त व नाबूद कर दिया जाएगा।
इसी दलील की बिना पर “तक़य्या” इस्लामी क़ानून से पहले तमाम इन्सानों के लिए एक अक़्ली और मनतिक़ी तरीक़ा है जिस पर ताक़तवर दुश्मन के मुक़ाबले के ज़माने में अमल होता चला आया है और आज भी इस पर अमल होता है।

इस्लामी रिवायात में तक़य्या को एक दिफ़ाई ढाल से तश्बीह दी गई है। हज़रत इमाम सादिक़ (अस) फ़रमाते हैं :
” ﺍﻟﺘﻘﯿﺔ ﺗﺮﺱ ﺍﻟﻤﺆﻣﻦ ﻭﺍﻟﺘﻘﯿﺔ ﺣﺮﺯ ﺍﻟﻤﺆﻣﻦ )” ١ )
“तक़य्या मोमिन के लिए ढाल है, और तक़य्या मोमिन की हिफ़ाज़त की चीज़ है।” (1)
(इस बात पर तवज्जो रहे कि यहाँ तक़य्या को ढाल की तरह बताया गया है और यह मालूम है कि ढाल को सिर्फ़ जंग के मैदान में इस्तेमाल किया जाता है)

और अगर हम यह देखते हैं कि अहादीस इस्लामी में तक़य्या को दीन की निशानी और ईमान की निशानी क़रार दिया गया है और दीन के दस हिस्सों में से नौ हिस्सा शुमार किया गया है, उसकी वजह यही है।
हालाँकि तक़य्या के सिलसिले में बहुत ज़्यादा लम्बी बहस है जिस का यह मौक़ा नहीं है, हमारा मक़सद यह था कि तक़य्या के सिलसिले में एतराज़ करने वालों की जिहालत और नाअगाही मालूम हो जाए कि वह तक़य्या की शर्तों और फ़लसफ़े से जाहिल हैं, बेशक बहुत से ऐसे मौक़े हैं जहाँ तक़य्या करना हराम है, और वह उसे मौक़े पर जहाँ इन्सान की जान की हिफ़ाज़त के बजाय मज़हब के लिए ख़तरा हो या किसी अज़ीम फ़साद का ख़तरा, लिहाज़ा ऐसे मौकों पर तक़य्या नहीं करना चाहिए उसका नतीजा जो भी हो क़ुबूल करना चाहिए। (2)
(1) वसाएल उश्शिया, जिल्द, 11,हदीस 6, बाब 24 अम्र बिल माअरूफ़
(2) तफ़सीर नमूना, जिल्द 11, पेज 423

~~~~~~~~~~~~~~~
आयतुल्लाह नासिर मकारिम शिराज़ी
~~~~~~~~~~~~~~~~
अनुवादक : अादिल अब्बास
~~~~~~~~~~~~~~~~

इस्लाम में ग़ुलामी और कनीज़ी का रिवाज : मौजूदा दौर में

इस्लाम में ग़ुलामी और कनीज़ी का रिवाज : मौजूदा दौर में

सवाल : इस्लाम में कनीज़ों / ग़ुलामों को रखने की इजाज़त क्यों थी? क्या यह इन्सानियत के ख़िलाफ़ नहीं? आजकल भी बहुत जगहों पर इन्सानों को ख़रीदा और बेचा जाता है, क्या यह इजाज़त अब भी मौजूद है? क्या हम इस दौर में भी ग़ुलाम और कनीज़ रख सकते हैं?

जवाब : बेशक इस्लाम के अहकामात मुकम्मल हैं लेकिन बहुत जगहों पर इस्लाम ने उसूल बनाए हैं, इन उसूलों को हम ने हर ज़माने में लागू करना है, मिसाल के तौर पर मौला अली (अस) पर किसी नादान ने एतराज़ किया कि रसूल अल्लाह (सअ) ने तो दाढ़ी को ख़िज़ाब करने का हुक्म दिया था और आप ख़िज़ाब नहीं करते। तो मौला अली (अस) ने उसको जवाब दिया था कि चूंकि उस वक़्त मुसलमान कम थे और उनको यहूदियों से जुदा दिखने के लिए यह हुक्म दिया था क्योंकि यहूदी अपनी दाढ़ी नहीं रंगते थे। और लोगों की कमी की वजह से मुसलमानों को ख़िज़ाब का हुक्म हुआ ताकि जवान लगें और दुश्मनों पर हैबत तारी हो। लेकिन अब यह बात नहीं है तो मौला अली(अस) ख़िज़ाब नहीं लगाते थे।

तो हमें इस विषय की पहचान आनी चाहिए। शरियत उसूल बताती है, विषय की पहचान हर ज़माने के हिसाब से होगी। शरियत के इन्हीं उसूलों में से एक अदालत है, उस ज़माने में ग़ुलामी और कनीज़ी को क़ुबूल किया जाता था तो इस्लाम ने शुरू में इस को बाक़ी रखा लेकिन ग़ुलामों के हक़ूक़ ऐसे बयान किये कि इन्सानों जैसा व्यवहार हो। लेकिन जब ग़ुलामी कनीज़ी अदालत के ख़िलाफ़ समझी जाने लगी तो ख़ुद बख़ुद यह हुक्म बेकार हुआ, और इसको बेकार भी शरियत ने अपने उसूल “अदालत” के ज़रिए किया।

पुराने ज़माने में जंगों की वजह से जंगी क़ैदी बड़ी संख्या में बनते थे। ग़ुलामों और कनीज़ों के वुजूद को क़ुबूलियत हासिल थी, इस दौर में दुनिया के हर आईन और दीन में इसकी इजाज़त थी क्योंकि जंग से तबाह हाल क़ैदी समाज में अराजकता फैला सकते थे तो ग़ुलामों की सूरत में उन ग़ुलामों की जीविका मिल जाती थी। इस्लाम ने इस इजाज़त को बाक़ी रखा लेकिन इस से मुक़ाबले के लिए जो उसूल बनाए वह यह हैं :

1: ग़ुलामों के साथ अच्छा व्यवहार करने का हुक्म हुआ, जो ख़ुद खाओ वह उनको भी खिलाया जाए। उनको अच्छा पहनाने का हुक्म हुआ और आइम्मा (अस) अपने दस्तरख़्वान पर ग़ुलामों को भी बिठाया करते थे, और कई लोग एतराज़ भी करते थे।

2: उनको अाज़ाद करने को प्राथमिकता दी गई। इमाम ज़ैनुल आबिदीन (अस) के बारे में मिलता है कि वह बहुत ग़ुलाम और कनीज़ ख़रीद कर आज़ाद किया करते थे। हर साल रमज़ान में ग़ुलामों को ख़रीदा करते थे, उनकी दीनी लिहाज़ से तरबियत(प्रशिक्षित) करते थे और अगले रमज़ान उनको आज़ाद करते थे। इमाम (अस) की तरबियत की वजह से यह ग़ुलाम बेहतरीन इन्सान बन जाते थे।

3: कनीज़ ख़रीद कर उन से मिलाप करने के बजाए उनसे निकाह करने के सलाह दे दी गई। कई आइम्मा(अस) की मां कनीज़ें थीं जिन का ताल्लुक़ दुनिया के अलग अलग इलाकों से था। आइम्मा (अस) ने अपनी कनीज़ों से ही शादियां की और अपने शियों को अमल करके प्रोत्साहित किया कि वह इस अच्छे काम में ज़रूर हिस्सा लें। इमाम ज़ैनुल अाबिदीन (अस) ने जब अपनी कनीज़ से निकाह किया तो उस वक़्त के अमवी ख़लीफ़ा ने आप को ख़त लिख कर अपनी तरफ़ से ग़ैरत दिलाने की कोशिश की कि आप इतने उच्च ख़ानदान से हैं, आप के लिए क़ुरैश के ख़ानदान से बेहतरीन रिश्ते मौजूद थे लेकिन फिर भी आप (अस) ने एक कनीज़ से शादी की? इसके जवाब में इमाम (अस) ने लिखा कि इस्लाम इन घिसे पिटे ख़यालात को मिटाने आया है, निकाह को इस्लाम में पसन्द किया गया है और अगर यह काम किया जाए तो इसमें कोई एतराज़ नहीं किया जा सकता।

4: अक्सर हरम बनाने का रिवाज ग़ैर शियों में था, शिया अपने इमाम की तरबियत में इन चीज़ों से दूर थे।
[ हरम किसी एक पुरुष की अनेक स्त्रियों के रहने के उस स्थान को कहते हैं जहाँ अन्य मर्दों का जाना वर्जित होता है।
हरम शब्द की अरबी शब्द हरम (حرم) से बना है जिसका अर्थ “वर्जित क्षेत्र” या “पवित्र, पावन”। यह शब्द अरबी के हरीम (حريم) और हराम (حرام) से सम्बन्धित है जिनका क्रमशः अर्थ होता है “पवित्र या अलंघनीय स्थान;परिवार की औरतें” या “वर्जित;पावन”]

5: ग़ुलामों की इज़्ज़ते नफ़्स को चोट देने से मना किया गया। मिसाल के तौर पर इमाम ज़ैनुल आबिदीन (अस) के एक सहाबी ने अपने ग़ुलाम को गाली दी तो इमाम (अस) उसे से सख़्त नाराज़ हुए।

अब चूंकि जंगी क़ैदियों को ग़ुलाम बनाने का रिवाज नहीं रहा बल्कि आलमी-मुआहदों (Worldwide Agreement) जैसे “जेनेवा कन्वेंशन” के अन्तर्गत इसको क़ानूनी हैसियत नहीं है तो अब यह अहकामात भी ख़त्म हो चुके हैं। अगर अब भी कहीं पर इन्सानों को ख़रीदा और बेचा जाता है तो यह जाएज़ नहीं है।

बहुत से शरई अहकामात का ताल्लुक़ ज़माने के ज़रूरतों से होता है। इस की बुराई के बावजूद अगर इस्लाम ने इसकी इजाज़त दी तो ज़माने की हालत की वजह से, अब चूंकि ऐसा नहीं है तो इस्लाम में यह इजाज़त ख़त्म हो गई। याद रहे कि यह सिर्फ़ इजाज़त थी, इजाज़त और हुक्म में फ़र्क़ है।

फ़र्ज़ करें कि एक बच्चा अपने बाप से आइसक्रीम मांगता है जो उसकी सेहत के लिए नुकसानदेह हो, लेकिन बाप उसकी ज़िद की वजह से इजाज़त दे देता है। तो इस इजाज़त का मतलब सिर्फ़ वक़्ती इजाज़त है, हुक्म नहीं है कि जब भी मौक़ा मिले आइसक्रीम खा लें।

इसी तरह ग़ुलामों और कनीज़ों को रखने की इजाज़त भी इस हद तक थी जिस हद तक समाज में इसका रिवाज था। अब चूँकि इन्सानी अक़्ल इसको क़ुबूल नहीं करती और जेनेवा कन्वेंशन की सूरत में दुनिया के देशों का इस पर इत्तेफ़ाक़ है कि ग़ुलामी क़बीह है और इसको मुकम्मल ख़त्म कर दिया जाएगा, लिहाज़ा इस्लाम का भी यही हुक्म होगा। यह ऐसी चीज़ नहीं जिस को इस्लाम ने पसन्दीदा निगाहों से देखा हो, बल्कि हमेशा बुरदा फ़रोशी को बुरा क़रार दिया।

वह ढेरों आयात और अहादीस भी हैं जिनमें अदालत का हुक्म है, हर वह हुक्म जो अदालत के ख़िलाफ़ हो इस्लाम में बेकार बातिल माना जाएगा। लिहाज़ा आज दाएश और इस जैसे और गिरोह ग़ुलामी और कनीज़ी के तसव्वुर पर अमल कर रहे हैं। यह इस्लाम की शिक्षाओं को बदनाम करने के सिवा कुछ नहीं कर रहे।

लेख: सैय्यद जव्वाद हुसैन रिज़वी
अनुवाद : आदिल अब्बास